Monday, August 10, 2020

Textual description of firstImageUrl

Janmashtami festival | Chhapan Bhog | छप्पन भोग

Jai Shree Radhe Radhe



Janmashtami 2020 is around the corner and will be celebrated on 11th & 12th August, 2020 this year. Devotees across the world are ready to welcome the eight avatar of Lord Vishnu- Lord Krishna with much enthusiasm and fervor. Krishna, Kanhaiya, Govind, Gopal, Nandlal, Brijesh, Manmohan, Balgopal, Murli Manohar... No matter what you call him Lord Krishna spreads love and harmony amid circumstances of conflict and chaos.  Though different regions carry out Krishna Janmashtami celebrations in their own way, most people fast the entire day. After sundown, hymns are recited and bhajans are sung in the name of the Lord. People stay up till midnight to break their fast, as it is believed to be the timewhen Lord Krishna was born. The day after Janmashtami is referred to as ‘Nanda Utsav', wherein people distribute sweets and gifts to their loved ones.


 Why does Chappan Bhog have 56 dishes? 

  • As an offering to the Lord, people put together a list of 56 food items, referred to as the Chappan Bhog. The word ‘Chappan' translated to 56, and ‘Bhog'means food. Wondering why there are specifically 56 items? The story goes that to protect his village and the people from the wrath of The God of Rain  (Lord Indra), Krishna ji had lifted the Govardhan Parvat and placed it at the tip of his little finger, under which everyone had taken refuge. He stood still for seven whole days continuously, until Lord Indra realised his mistake. Lord Krishna would usually eat eight food items every day, but he didn't consume any food during these seven days. So at the end of the seventh day, everyone made Krishna ji a total of 56 dishes (eight multiplied by seven), out of gratitude.
  • Another version says: since there are 24 hours and traditionally every three hours is called a pahar. In temples, there is a change of guard and a new decor and dress for the Lord every three hours, where a new bhog is offered. That makes for eight offerings in a day. This is done seven days a week, and so this is called chhappan bhog.In Ayurveda, there is mention about six flavours or rasas. These tastes are: sweet (madhur), sour (amla), salty (lavan), pungent (katu), bitter (tikhta) and astringent (kashaya). The mathematics behind this flavour is even more interesting. How many possible combinations of food are possible using all these six flavours?If you still remember high school mathematics, you can calculate this as:

                {\displaystyle ^{6}C_{1}+^{6}C_{2}+^{6}C_{3}+^{6}C_{4}+^{6}C_{5}+^{6}C_{6}=63}

However food cannot be prepared using all six flavours together or only a single flavour. So subtract     6C1=6 and 6C6=1 from 63. Therefore 63- (6+1)=56! Got it? That’s why the Lord is offered sacred food of all possible combinations. 

What goes into a Chappan Bhog?

Chappan bhog is a mix of cereal, fruits, dry fruits, sweets, drinks, namkeen and pickles. Some of the common items found in the chappan bhog are makhan mishri, kheer, rasgulla, jeera ladoo, jalebi, rabri, mathri, malpua, mohanbhog, chutney, murabba, saag, dahi, rice, dal, kadi, ghewar, chila, papad, moong dal ka halwa, pakoda, khichadi, brinjal ka sabji, lauki ka sabji, poori, badam milk, tikkis, cashews, almonds, pistachios and elaichi among others. They are  all arranged in a particular sequence, milk items are placed first, followed by salty items, and sweets in the end.


Importance of Dhaniya Panjiri

  • Coriander panjiri is also served as prasad and is often eaten during fasts. This panjiri is very rich in nutrients, it is made by adding powdered sugar, ghee, flour and dry fruits. However, on the occasion of the festival coriander is used instead of flour in making panjiri for offering it to God.Actually, cereals or grain are not allowed to be consumed during the fast, hence coriander is used.
  • There is a tradition of making coriander panjiri on Krishna Janmashtami. Coriander is one of the important spices of Indian cuisine. The main prasad of Janmashtami is coriander panjiri This is because during the rainy season, there is an outbreak of wind, Kapha mitigation and accumulation of bile.Fear of air and water-borne people increases in air-affected people. Vata outbreaks can affect the nervous system. Water and air pressure can vary anywhere in the body. This can increase both health problems and ugliness.Coriander is very effective and toxic in protecting it. Coriander destroys the poisonous elements in the body due to contamination of water in the rain.After 12 o'clock at night, Krishna devotees takes the prasad after their  birth anniversary. This time is generally not good to take any heavy food. In such a case, if you take a wrong diet, it can leave a serious negative impact on health. Coriander panjiri are sweet and tasteful .In contrast, if a fast is completed with normal flour panjiri or other sweet substances, it can be harmful to our health. Dhaniya panjiri can also be consumed normally during the rainy season.

Ingredients for Dhaniya Panjiri Prasad

Coriander Powder - 100 grams (one cup)

Desi Ghee - 3 tbsp

Makhane - half cup

Powdered sugar or boora - half cup

Ripe Coconut - half cup (grated)

Cashews, Almonds - 10 - 10

Chironji - One spoon

 How to make Dhaniya Panjiri Prasad

  1. Put 1 table spoon of ghee in the pan and fry the finely ground coriander till it smells good. 
  2. Cut the Makhana into four pieces and add the remaining Ghee and fry it in Ghee and take it out. Coarsely grind the roasted Makhana with a rolling pin or some heavy stuff.
  3. Cut cashews and almonds into small pieces.
  4.  Add roasted coriander powder, coarse makhane, grated coconut, boora and dry fruits in dhaniya panjiri
  5. Dhaniya Panjiri is ready.

जन्माष्टमी  इस वर्ष 11 और 12 अगस्त, 2020 को मनाया जाएगा। दुनिया भर के भक्त भगवान विष्णु के आठवे  अवतार- भगवान कृष्ण का बहुत उत्साह  साथ स्वागत करने के लिए तैयार हैं। कृष्ण, कन्हैया, गोविंद, गोपाल, नंदलाल, बृजेश, मनमोहन, बालगोपाल, मुरली मनोहर ... कोई फर्क नहीं पड़ता कि आप उन्हे किस नाम से जानते है। वह श्री भगवान कृष्ण हैं जो संघर्ष और अराजकता की परिस्थितियों के बीच प्रेम और सद्भाव फैलाते है। हालांकि विभिन्न क्षेत्र अपने-अपने तरीके से कृष्ण जन्माष्टमी उत्सव मनाते हैं, लेकिन ज्यादातर लोग पूरे दिन उपवास रखते हैं। सूर्यास्त के बाद, भजन गाए जाते हैं। लोग अपना उपवास तोड़ने के लिए आधी रात तक जागते हैं, क्योंकि यह माना जाता है कि भगवान कृष्ण का जन्म आधी रात  को हुआ था। जन्माष्टमी के बाद के दिन को 'नंद उत्सव' के रूप में जाना जाता है, जिसमें लोग अपने प्रियजनों को मिठाई और उपहार वितरित करते हैं।

 छप्पन भोग में 56 व्यंजन क्यों होते हैं?

भगवान को प्रसाद के रूप में, लोगों ने 56 खाद्य पदार्थों की एक सूची दी, जिसे छप्पन भोग कहा जाता है। आश्चर्य है कि विशेष रूप से 56 आइटम क्यों हैं?  इसके पीछे भी कई पौराणिक कथाएं जुडी जिनमे से एक कहानी यह है कि अपने गांव और लोगों को बारिश के देवता  (भगवान इंद्र) के प्रकोप से बचाने के लिए, कृष्ण जी ने गोवर्धन पर्वत को उठाकर अपनी छोटी उंगली की नोक पर रख दिया था, जिसके नीचे सभी ने शरण ली थी। वह पूरे सात दिनों तक लगातार खड़े रहे, जब तक कि भगवान इंद्र को अपनी गलती का एहसास नहीं हुआ। भगवान कृष्ण आमतौर पर हर दिन आठ खाद्य पदार्थों का सेवन करते थे , लेकिन उन्होंने इन सात दिनों के दौरान किसी भी भोजन का सेवन नहीं किया। तो सातवें दिन के अंत में, सभी ने कृतज्ञता से कृष्णा जी को कुल 56 व्यंजन (सात से आठ गुणा) दिए।

एक अन्य संस्करण कहता है: चूंकि 24 घंटे होते हैं और पारंपरिक रूप से हर तीन घंटे को एक  पहर कहा जाता है। मंदिरों में, हर तीन घंटे में भगवान के लिए पहरेदारी और एक नई सजावट और पोशाक होती है, जहाँ एक नया भोग चढ़ाया जाता है। और पुरे दिन में आठ बार प्रसाद बनाया जाता है। यह सप्ताह में सात दिन किया जाता है, और इसलिए इसे छप्पन भोग कहा जाता है। आयुर्वेद में, लगभग छह स्वाद या रस का उल्लेख है। ये स्वाद हैं: मीठा (मधुर), खट्टा (आंवला), नमकीन (लवन), तीखा (कटु), कड़वा (तिक्त) और कसैला (कषाय)। इस स्वाद के पीछे का गणित और भी दिलचस्प है। इन सभी छह स्वादों का उपयोग करके भोजन के कितने संभावित संयोजन संभव हैं? यदि आप अभी भी हाई स्कूल के गणित को याद करते हैं, तो आप इसकी गणना इस प्रकार कर सकते हैं:

    {\displaystyle ^{6}C_{1}+^{6}C_{2}+^{6}C_{3}+^{6}C_{4}+^{6}C_{5}+^{6}C_{6}=63}

हालाँकि सभी छह स्वादों को एक साथ या केवल एक ही स्वाद का उपयोग करके भोजन तैयार नहीं किया जा सकता है। तो 6C1 = 6 और 6C6 = 1 को 63 से घटाएं। इसलिए 63- (6 + 1) = 56! समझ गया? यही कारण है कि भगवान को सभी संभावित संयोजनों का पवित्र भोजन दिया जाता है।

छप्पन भोग में क्या जाता है?

छप्पन भोग अनाज, फल, सूखे मेवे, मिठाई, पेय, नमकीन और अचार का मिश्रण है। छप्पन भोग में पाई जाने वाली कुछ सामान्य वस्तुएँ हैं माखन मिश्री, खीर, रसगुल्ला, जीरा लड्डू, जलेबी, रबड़ी, मठरी, मालपुआ, मोहनभोग, चटनी, मुरब्बा, साग, दही, चावल, दाल, काड़ी, घेवर, चीला , मूंग,दाल का हलवा,पकोड़ा, खिचड़ी, बैंगन की सब्जी, लउकी की सब्जी, राबड़ी , बादाम मिल्क  मिल्क, टिक्की, काजू, बादाम, पिस्ता और इलाइची आदि। वे सभी एक विशेष अनुक्रम में व्यवस्थित होते हैं, दूध की वस्तुओं को पहले रखा जाता है, उसके बाद नमकीन आइटम, और अंत में मिठाई।

 धनिया पंजीरी का महत्व 

  • धनिया पंजीरी   एक फलाहारी व्यंजन है जिसे प्रसाद के रूप में भी परोसा जाता है और अक्सर व्रत के दौरान इसे खाया जाता है. पंजीरी काफी पोषक तत्वों से भरी होती हैं, इसे पीसी हुई चीनी, घी, आटा और ड्राई फ्रूटस डालकर बनाया जाता है. हालांकि, त्योहार के मौके परभगवान को भोग लगाने के लिए पंजीरी बनाते वक्त इसमें आटे की जगह धनिए का इस्तेमाल किया जाता है. दरअसल, व्रत के दौरान अनाज का सेवन करने की अनुमति नहीं होती, इसलिए धनिये का उपयोग किया जाता है.

  • कृष्ण जन्माष्टमी पर धनिए की पंजीरी बनाने की परंपरा है। भारतीय व्यंजनों के अहम मसालों में से एक है धनिया। जन्माष्टमी का मुख्य प्रसाद धनिया पंजीरी ही होती है। इसकी वजह है वर्षा ऋतु में वात का प्रकोप, कफ कर शमन और पित्त का संचय होता है। वात प्रभावित लोगों में वायु एवं जल जनित लोगों की आशंका बढ़ी हुई रहती है। वात के प्रकोप से नाडी तंत्र प्रभावित हो सकता है। शरीर में कहीं भी जल एवं वायु का दबाव घट-बढ़ सकता है। इससे स्वास्थ्य-समस्या और कुरूपता दोनों ही बढ़ सकती है।धनिया इससे बचाव में अत्यंत कारगर और विष नाशक है। धनिया बारिश में जल के दूषित होन से शरीर में बढ़े विषैले तत्वों का नाश करता है। कृष्ण जन्माष्टमी पर श्रृद्धालु व्रत भूखे रहते हैं।इसके बाद रात्रि 12 बजे कृष्ण जन्मोत्सव के बाद प्रसाद ग्रहण करते हैं। यह समय सामान्यत: कुछ भी खाने योग्य नहीं होता। ऎसे में यदि कोई गलत आहार ले तो वह स्वास्थ्य पर गंभीर नकारामक प्रभाव छो़ड सकता है। धनिया पंजीरी मीठी और सुस्वादु होकर भी कफ एवंवात के दोष नहीं बढ़ाती है। इसके विपरीत सामान्य आटा पंजीरी या अन्य मीठे पदार्थ से व्रत पूर्ण किया जाए तो वह स्वास्थ्य के लिए अहितकर हो सकता है। वर्षा ऋतु में सामान्य तौर पर भी इसका सेवन किया जा सकता 
सामग्री धनिया पंजीरी प्रसाद के लिए

धनियां पाउडर- 100 ग्राम (एक कप)

देशी घी - 3 टेबल स्पून

मखाने - आधा कप

पिसी चीनी या बूरा - आधा कप

पका नारियल - आधा कप (कद्दूकस किया हुआ)

काजू ,बादाम - 10 - 10

चिरोंजी - एक चम्मच

विधि 

  1. कढ़ाई में 1 टेबल स्पून घी डालिये और बारीक पिसे धनिये को अच्छी सुगन्ध आने तक भून लिजिये कुछ लोग  साबुत धनियां लेकर पहले उसे भून लेते हैं और बाद में बारीक पीस लेते हैं लेकिन मुझे पिसे धनियां को पीस कर पंजीरी बनान ज्यादा आसान और अच्छा लगता है.
  2. मखाने को काट कर चार टुकड़े कर लीजिये और बचा हुआ घी डाल कर घी में तल कर निकाल लीजिये.  भुने मखाने को बेलन या किसी भारी चीज से दरदरा कर लीजिये.
  3. काजू और बादाम छोटे छोटे काट लीजिये.
  4. भुना हुआ धनियां पाउडर, दरदरे मखाने, कद्दूकस किया नारियल, बूरा और मेवे मिला कर पंजीरी बना लीजिये.
  5. धनियां की पंजीरी (Dhaniya Panjiri)  तैयार है.
दुनिया के विभिन्न हिस्सों में कुछ बदलावों के साथ भगवान कृष्ण को दी जाने वाली 56 भोग की सूची:

1. भात या चावल 



2. सूप (दाल)


3. प्रलेह (चटनी),


4. सदिका (कढ़ी),


5. दधिशाकजा (दही शाक की कढ़ी),

6. सिखरिणी (सिखरन),



7. अवलेह (शरबत),


8. बालका (बाटी),

9. इक्षु खेरिणी (मुरब्बा),



10. त्रिकोण (शर्करा युक्त) या  शकरपारे 

11. बटक (बड़ा) या दही बड़ा 

12. मधु शीर्षक (मठरी),

13. फेणिका (फेनी),

14. परिष्टश्च (पूरी),

15. शतपत्र (खजला) या खाजा 

16. सधिद्रक (घेवर),

17. चक्राम (मालपुआ),

18. चिल्डिका (चीला 

19. सुधाकुंडलिका (जलेबी),


20. धृतपूर (मेसू) 

21. वायुपूर (रसगुल्ला),

22. चन्द्रकला (पगी हुई),


23. दधि (महारायता),

24. स्थूली (थूली),

25. कर्पूरनाड़ी (लौंगपूरी) या लौंग लता 


26. खंड मंडल (खुरमा),

27. गोधूम ( मीठा दलिया) या दलिया का हलवा 

28. गुलाब जामुन 

29. सुफलाढय़ा (सौंफ युक्त),

30. बर्फी 

31. मोदक (लड्डू),

32. शाक (साग),

33. सौधान (अधानौ अचार),

34. मंडका (मोठ),

35. पायस (खीर),

36. दधि (दही),

37. गोघृत (गाय का घी),

38. हैयंगपीनम (मक्खन),

39. मंडूरी (मलाई),

40. कूपिका (रबड़ी),

41. पर्पट (पापड़),

42. शक्तिका (सीरा),

43. लसिका (लस्सी),

44. बादाम 

45. किशमिश 

46. सुफला (सुपारी)

47. सिता (इलायची)

48. फल


49. तांबूल या पान 

50. मोहन भोग

51. लवण

52. मीठे चावल 

53. शहद 

54. छाछ 

55. पिस्ता 

56. धनिया की पंजीरी 

1 comment:

  1. V nice ,reallày had only herd of 56 bhog. Today actually got to know what they are

    ReplyDelete

Comments may be moderated. If you don't see your comment, please be patient. It may be posted soon. Do not post your comment a second time. Thank you.

shilpiKitchen.com

Follow by Email